उनकी बस इतनी सी गलती थी कि वे भाजपा और आरएसएस का समर्थन करते थे

विस्मया केरल के कण्णूर की रहने वाली 12 वर्षीय लड़की है. विस्मया अभी 8वीं कक्षा की छात्रा हैं. विस्मया एक आरएसएस कार्यकर्ता एज्हुथान संतोष की बेटी है जिनकी हत्या इसी साल 18 जनवरी की रात को कण्णूर में हुई थी. आरएसएस कार्यकर्ता संतोष की हत्या का आरोप सीपीएम कार्यकर्ताओं पर है और 6 सीपीएम कार्यकर्ताओं के गिरफ्तार भी किया गया है.

Vismaya

पिछले दिनों जिस तरह से दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्र गुरमेहर कौर का वीडियो आया था अब उसी तरह से बनाया गया एक वीडियो विस्मया का आया है. वीडियो में विस्मया बिना कुछ बोले बस प्लेकार्ड्स दिखाकर अपने पिता के लिए इंसाफ मांग रही है.

विस्मया इस वीडियो से सवाल खड़े कर रही है कि आखिर उनके पिता को क्यों मार दिया गया? उनकी बस इतनी सी गलती थी कि वे भाजपा और आरएसएस का समर्थन करते थे.

विस्मया कह रही है कि वो देश की सेवा करना चाहती है, आईपीएस बनाना चाहती है. मेरे पिताजी मेरे सपनो को पूरा करना चाहते थे लेकिन उस एक रात ने मेरे सारे सपने चकनाचूर कर दिए. मुझे अब मेरे भविष्य में केवल अंधरे के सिवाय और कुछ नही दिखाई देता.

विस्मया का कहना है कि उन्होंने सिर्फ मेरे पिता की हत्या नही बल्कि पुरे परिवार को जीते जी मार दिया, मेरे सपनो और मेरे भविष्य को भी मार दिया, मेरे बीमार दादाजी को भी जीते जी मार दिया. मुझे अभी तक जवाब नही मिला की उन्होंने मेरे पिताजी को क्यों मार डाला.

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here